आध्यात्मिक विचार - 31-10-2015

संसार से हमें वही मिल रहा है, जो हमने पूर्व में संसार को दिया था।
भविष्य में भी हमको वही मिलेगा, जो आज हम संसार को दे रहे हैं॥
चाहे वह प्रेम हो ....या धोखा!

आध्यात्मिक विचार -10-06-2015


धर्म और अधर्म की परिभाषा कार्य का उद्देश्य निर्धारित करता है, एक ही कार्य धर्म और अधर्म दोनों ही हो सकता है।

जब कार्य का उद्देश्य स्वार्थ-सिद्धि होता है तो वह कार्य अधर्म कहलाता है, और जब उसी कार्य को परमार्थ-सिद्धि के उद्देश्य से किया जाता है तो वही कार्य धर्म कहलाता है। 

आध्यात्मिक विचार - 07-06-2015


ज्ञानी का अहंकार शास्त्र को शस्त्र बना देता हैं।
शास्त्रों से जीवन का विकास होता हैं, और शस्त्रों से जीवन का विनाश होता हैं।