आज का विचार


संसार में दो प्रकार के मनुष्य होते हैं, एक आसुरी स्वभाव वाले दूसरे दैवीय स्वभाव वाले, जो व्यक्ति आसुरी स्वभाव वाला होता है वह अपनी इच्छानुसार पुरुषार्थ करता है, और जो व्यक्ति दैवीय स्वभाव वाला होता है वह शास्त्रानुसार पुरुषार्थ करता है।

आज का विचार


जिस व्यक्ति का मन से परमात्मा से राग रहता है, और तन से सभी सांसारिक कर्तव्य कर्मो को अनासक्त भाव से करता रहता है, वही सच्चा वैरागी होता है। ऎसे वैरागी व्यक्ति को कोई साधारण व्यक्ति नहीं पहचान सकता है।

आज का विचार


व्यक्ति जैसा सोचता है वैसा ही कर्म होता है।

प्रत्येक व्यक्ति में पाँचों ज्ञान इन्द्रियों के आकर्षण से बुद्धि में कामना उत्पन्न होती है, विवेक द्वारा अच्छी-बुरी कामनाओं के बारे में सोचा जाता है, मन के द्वारा वैसी ही इच्छा जाग्रत होती है, उसी इच्छा के अनुसार कर्म होता है।

आज का विचार

व्यक्ति जिसका चिंतन करता है उसके ही गुण-दोषों को ग्रहण करता है। 
जब कोई व्यक्ति किसी भी अन्य व्यक्ति की निन्दा करता है तब वह उस व्यक्ति के दोषों को ग्रहण करता है, जब कोई व्यक्ति किसी अन्य व्यक्ति की तारीफ़ करता है तब वह उस व्यक्ति के गुणों को ग्रहण करता है, और जब व्यक्ति भगवान का चिंतन करता है तब वह भगवान के ही गुणों को ग्रहण करता है। 

आज का विचार


संसार में जो कुछ भी अभी तक हुआ है, जो कुछ भी हो रहा है और जो कुछ भी आगे होगा, वह सब भगवान के पूर्व निर्धरित संकल्प से ही होता है, लेकिन मनुष्य जिस भाव से देखता है, सुनता है, स्पर्श करता है, वही व्यक्ति का वर्तमान कर्म होता है।

आज का विचार


व्यक्ति बुद्धि से जैसा सोचता है, मन में वैसे ही विचार उत्पन्न होते है, वैसे ही कर्म होते है, इसलिये जिस व्यक्ति के मन में कभी बुरे विचार उत्पन्न नहीं होते हैं, उस व्यक्ति से कभी भी पाप-कर्म नही होते हैं।

आज का विचार


व्यक्ति जब तक स्वयं को शरीर समझता रहता है तब तक वह मिथ्या अंहकार से ग्रसित रहता है, जब तक व्यक्ति मिथ्या अंहकार से ग्रसित रहता है तब तक व्यक्ति अज्ञानी ही होता है।

आज का विचार


बिना फल की कामना से कर्म करने पर ही परमात्मा की अनुभूति हो सकती है, बिना परमात्मा की अनुभूति के वास्तविक ज्ञान प्रकट नहीं हो सकता है, बिना ज्ञान के अज्ञान नहीं मिट सकता है, बिना अज्ञान मिटे भगवान की प्राप्ति नहीं हो सकती है। 

आज का विचार


अपने कर्तव्य कर्म पर दृष्टि रखने वाला ही जीवन में सुख एवं शान्ति को प्राप्त कर पाता है, दूसरों के कर्तव्य कर्म पर दृष्टि रखने वाला कभी सुख एवं शान्ति कभी प्राप्त नहीं कर पाता है। 

आज का विचार


व्यक्ति जैसे लोगों का संग करता है, वैसा ही व्यक्ति का स्वभाव बनता है, वैसा ही व्यक्ति का कर्म होता है और वैसा ही व्यक्ति को फल भोगना पड़ता है।

आज का विचार


श्री मद भगवत गीता के अनुसार अपने कर्तव्य को जानकर निष्काम भाव से अपने कर्तव्य कर्मो को करना ही भगवान की भक्ति करना होता है, अन्य किसी कर्म को भगवान की भक्ति कहना स्वयं को धोखा देना ही होता है।

आज का विचार


प्रत्येक मनुष्य को एक जन्म के कर्मों को कई जन्मों तक भोगने पड़ते हैं, इस जन्म के मानसिक सुख-दुख अगले कई जन्मों के शारीरिक सुख-दुख के रूप में भोगने पड़ते हैं।

आज का विचार


प्रत्येक मनुष्य को दुख-सुख की अनुभूति दो प्रकार से होती है, मानसिक रूप से और शारीरिक रूप से, शरीरिक सुख-दुख पूर्व जन्म के कर्म के कारण भोगने पड़ते हैं और मानसिक सुख-दुख इस जन्म के कर्म के कारण भोगने पड़ते हैं।

आज का विचार


जो भी इच्छायें इस जीवन में पूर्ण होती हैं, वह पूर्व जन्म की कामानायें होती है, हम इस जीवन में जो भी कामनायें करते हैं, वह अगले जन्म जीवन में पूर्ण होंगी, क्योकि सांसारिक कामनाओं की पूर्ति के लिये ही प्रत्येक जीव को शरीर धारण करना ही पड़ता है।

आज का विचार


धर्म के अनुसार व्यवहार करना ही परमार्थ का मार्ग है, धर्म का आचरण न करने से व्यवहार और परमार्थ दोनों ही बिगड़ जाते हैं। 

आज का विचार

काम, क्रोध, लोभ और मोह व्यक्ति के सबसे बड़े दुश्मन हैं, जो व्यक्ति के अन्दर ही स्थित रहते हैं, जो व्यक्ति इन दुश्मनों पर विजय प्राप्त कर लेता है तो उस व्यक्ति का संसार में कोई दुश्मन नही रह जाता है।

आज का विचार


मन को संसार से हटाने का प्रयत्न नहीं करना चाहिये बल्कि मन को भगवान में लगाने का प्रयत्न करना चाहिये, ऎसा करने से एक दिन सांसारिक कामनायें स्वत: ही समाप्त हो जाती हैं।

आज का विचार


जो मनुष्य वेद और पुराणों के सार को ही ग्रहण करता है, वही मनुष्य मुक्ति का पात्र बन पाता है, वेद-पुराणों को रटने वाला हमेशा अंहकार से ग्रस्त रहता है। 

आज का विचार


कोई भी मनुष्य अपने कर्तव्य कर्म को पूर्ण किये बिना माया रूपी संसार से मुक्त नहीं हो सकता है, यही सभी पुराणों का एक मात्र सार है।

आज का विचार


संसार में समय से अधिक मूल्यवान वस्तु अन्य कोई नही होती है, जो समय का मूल्य जानता है, वही समय का सदुपयोग कर पाता है, उसी का जीवन सार्थक हो पाता है।

आज का विचार


जो मनुष्य दूसरों को जानने का प्रयत्न करता रहता है, वह स्वयं को कभी नही जान पाता है, जो व्यक्ति स्वयं को जान जाता है, वह एक दिन परमात्मा को भी जान जाता है।

आज का विचार


संसारिक प्राणीयों और सांसारिक वस्तुओं से प्रेम करने से केवल दुख ही मिलता है, और परमात्मा से प्रेम करने से ही आनन्द की प्राप्ति होती है।

आज का विचार


संसार में वही मनुष्य शक्तिशाली होता है, जिसने सर्वशक्तिमान भगवान की शरण ग्रहण कर ली है, भगवान की शरण में रहने वाला अभी प्रकार के भय से मुक्त हो जाता है।

आज का विचार


धन पाने के लोभ का त्याग करने वाला, बुद्धि के द्वारा कामनाओं का त्याग करने वाला, अपना कर्तव्य कर्म को जानने वाला और सहज रूप से प्राप्त धन से संतुष्ट रहने वाला व्यक्ति ही स्थाई शान्ति को प्राप्त कर पाता है। 

आज का विचार


पाप का मूल कारण "लोभ" होता है, लोभ के कारण ही विपत्तियाँ आती हैं, लोभ के कारण ही शत्रुता का जन्म होता है, लोभ के कारण ही व्यक्ति पतन को प्राप्त होता है।

आज का विचार


उत्साह मनुष्य का श्रेष्ठ बल होता है, उत्साह से बढ़कर अन्य कोई बल नहीं है, उत्साहित व्यक्ति के लिए इस संसार में कुछ भी दुर्लभ नहीं होता है। 

आज का विचार


विद्या के समान कोई आँख नहीं होती है, सत्य के समान तपस्या नहीं होती है, आसक्ति के समान दुःख नहीं होता है और त्याग के समान सुख नहीं होता है। 

आज का विचार

किसी भी प्राणी को देखने से, किसी भी प्राणी को स्पर्श करने से, किसी भी प्राणी को सुनने से या बात करने से हृदय द्रवित होता है इसी को प्रेम कहते है। 

आज का विचार


दिन को सूर्य प्रकाशित करता है, रात्रि को चन्द्रमा प्रकाशित करता है, सुपुत्र पूरे कुल को प्रकाशित करता है, और धर्म तीनों लोकों को प्रकाशित करता है। 

आज का विचार


परदेश में विद्या सबसे बड़ा धन होती है, संकट में बुद्धि सबसे बड़ा धन होती है, परलोक में धर्म सबसे बड़ा होता है और चरित्र सभी स्थानों में सबसे बड़ा धन होता है।

आज का विचार


जिस प्रकार उदय होते समय सूर्य लाल होता है और अस्त होते समय भी लाल होता है, उसी प्रकार महापुरुष सुख और दुःख में एक समान रहते हैं।